Generation of Computer| कम्पुटर की पीढीयॉ

सन 1946 मे प्रथम इलैकट्रोनीक डिवाईज Vacuum Tube युक्त ENIAC कम्पुटर के शुरुआत ने कम्पुटर के विकास को एक अधार प्रदान किया। कम्पुटर के विकाश के इस क्रम मे कई महत्वपूर्ण Devices कि सहायता से कम्पुटर ने आज तक की यात्रा तय की है

इस विकाश के क्रम को हम कम्पुटर मे हुए मुख्य परिवर्तन के अधार पर पाँच पिढियो मे बाटते है।

1. First generation of computer (1946 -1956) |प्रथम पीढी की कम्प्युटर-

कम्पुटर की प्रथम पिढि की शुरुआत सन 1946 मे एकर्ट और मुचली के ENIAC (Electronic Numerical Integrator and Computer) नामक के निर्माण से हुआ थ। इस पिढि के कम्पुटर मे Vaccum Tube का उपयोग किया जाता था। जिसका अविष्कार सन 1904 मे John Ambrose Fleming ने किया था। इस पीढी मे ऐनिक (ENIAC) के अलावा अन्य कई कम्पुटरो का भी निर्माण हुआ। जैसे= EDSEC, EDVAC, UNIVAC आदि |

प्रथम पिढि के कम्पुटर अकार मे बहुत बडे होते थे। इनकी speed बहुत slow होती थी। और memory भी कम होती थी। इससी कारण इन कम्पुटरो मे data को store  कर के नही रख जा सकता था। इन कम्पुटर के किमत बहुत अधिक होने के कारण ये कम्पुटर आम जनता से बहुत दुर थे।

First generation of computer (1946 -1956)

2. Second Generation Of Computer (1956 -1964) |द्रितीय पिढि की कम्प्युटर

कम्पुटर के प्रथम पिढि के बाद सन 1956 मे कम्पुटर की द्रितीय पिढि की शुरुआत हुई| इन कम्पुटरो मे vaccum tube के स्थान पर Transistor का उपयोग किया जाने लगा। William Shockley ने Transistor का अविष्कार सन 1947 मे किया थ। जिसका उपयोग द्दितीय पिढी मे vaccum Tube के स्थान पर किया जाने लगा।

Transistor के उपयोग कम्पुटरो को vacuumed Tube के अपेक्षाकृत अधिक गति एव विश्वश्नियता प्राप्त की Transistor के आने के बाद कम्पुटर के अकार मे भी सुधार आया अपेक्षाकृत द्दितीय पिढि के कम्पुटर छोटे आकार के हो गये।

इसी पिढि मे COBOL एव FORTON जैसी उच्चस्तरिय प्रोग्रामिंग भाषाओ का अविष्कार हुआ। इसी पिढि मे Storage Device,  printer एव Operating system का अविष्कार हुआ।

Second Generation Of Computer (1956 -1964)

3. Third Generation of Computer (1965 – 1971) | तृतीय पिढि की कम्प्युटर

कम्पुटर की तीसरी पिढि की शुरुआत सन 1965 मे हुई। इस पिढि ने कम्पुटर को I.C प्रदान किय। अर्थात Integrated Circuit जिसका अविष्कार Texas Instrument Company के एक इजिनियर Jack Kirby ने किया था।

I.C के प्रयोग से इस पिढि के कम्पुटर अकार मे छोट और हलके हो गाये तथा इन्हे एक स्थान से दुसरे स्थान पर ले जाना तथा रखरखाव भी असान हो गया। इस पिढि के कम्पुटरो मे ICL 2903, ICL1900, Univac1108 थे।

Third Generation of Computer (1965 – 1971 )

4. Fourth Generation of Computer (1972 -1985) |चतुर्थ पिढि की कम्प्युटर

सन 1971 से लेकर 1985 तक के कम्पुटरो को चातुर्थ पिढि के कम्पुटरो की सारणी मे रखा गया है। इस पिढि मे I.C को और अधिक विकशीत किया गया। जिसे Large Integrated Circuit कहा जाता है।

Fourth Generation of Computer (1972 -1985)

Fifth generation of computer|पंचम पीढि के कम्प्यूटर

वर्तमान मे उपस्थित कम्प्यूटर व भविष्य के कम्प्यूटरो को पंचम पीढि के कम्प्यूटरो मे शामिल किया गया है। पाचवी पीढी के कम्प्युटर अत्याधुनिक विशेषताओ व क्रित्रिम बुधिमता से भरपुर है।

Fifth generation of computer
Generations of computersGenerations timelineEvolving hardware
First generation1946s-1956sVacuum tube based
Second generation1956s-1964sTransistor based
Third generation1965s-1971sIntegrated circuit based
Fourth generation1971s-1985sMicroprocessor based
Fifth generationThe present and the futureArtificial intelligence based

Computer कि पाँच पीढियाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *